-----कल के उत्तम भविष्य के लिए आज बिजली बचायें ----- उपकरणों के उपभोग के बाद तुरन्त बन्द कर दें ----- आग लगे भवन की बिजली तुरन्त बन्द कर दें ----- अधिक क्षमता वाले बल्बों के स्थान पर कम क्षमता वाले बल्बों का उपयोग करें ----- कम्पैक्ट-लोरेसेन्ट का प्रयोग करें ----- जीवन्त अधिष्ठापन पर कदापि कार्य न करें, बल्कि अधिष्ठापन की बिजली बन्द करके ही कार्य करें ----- एयर कण्डीशन का कम से कम उपयोग करें -----
अमल मे लाये:-

1. बिजली एक आज्ञाकारी दास के साथ निर्दयी स्वामी भी है अतः इससे अत्यधिक सावधान रहें एवं सुरक्षा नियमों के अनुसार ही इसे उपयोग करें।

2. बिजली के पोल या स्टेवायर को न छुँए। इसमें बिजली हो सकती है या अचानक बिजली आ सकती है और आप दुर्घटनाग्रस्त हो सकते हैं।

3. बिजली लाइन के नीचे या उसके पास ऐसा कोई मकान न बनायें जिससे मकान से लाइन के तारों के बीच उर्ध्वाधर/क्षैतिज दूरी नियमानुसार निर्धारित सुरक्षित दूरी से कम हो जाये अन्यथा इससे कभी भी दुर्घटना हो सकती है।

4. बिजली लाइन के नीचे या पास में हैन्ड पम्प, नलकूप आदि न लगायें। निर्माण/मरम्मत के दौरान मेटालिक पाइप लाइन के तार से छू सकता है तथा दुर्घटना हो सकती है।

5. मकान की छत पर लगे बिजली के पोल्स /मेटालिक रॉड से तथा बिजली के तारों के पास कपड़ा सुखाने हेतु अरगनी को मत बाँधे, इसमे बिजली आ सकती है तथा दुर्घटना का कारण बन सकती है।

6. टूटकर जमीन पर पड़े तथा लटकते हुऐ तारों को कदापि न छुएँ। बिजली होने की दशा में आप दुर्घटनाग्रस्त हो सकते हैं।

7. विद्युत अधिष्ठापन को निर्धारित क्षमता के फ्यूजेज़ द्वारा सुरक्षित करना न भूले।

8. बिजली लाइन के नीचे या पास में बस/ट्रक/ट्राली आदि को खड़ा न करें एवं उसके ऊपर से सामान मत उतारें अन्यथा लाइन के तार के स्पर्श से स्पार्किंग, फ्लैश ओवर हो सकता है और भयंकर दुर्घटना हो सकती है।

9. जीवन्त ओवर हेड लाइन के नीचे से ऊँची ताजिया, रथ, पाइप या सरिया आदि न निकालें इससे का सम्पर्क हो सकता है तथा दुर्घटना घटित हो सकती है।