-----कल के उत्तम भविष्य के लिए आज बिजली बचायें ----- उपकरणों के उपभोग के बाद तुरन्त बन्द कर दें ----- आग लगे भवन की बिजली तुरन्त बन्द कर दें ----- अधिक क्षमता वाले बल्बों के स्थान पर कम क्षमता वाले बल्बों का उपयोग करें ----- कम्पैक्ट-लोरेसेन्ट का प्रयोग करें ----- जीवन्त अधिष्ठापन पर कदापि कार्य न करें, बल्कि अधिष्ठापन की बिजली बन्द करके ही कार्य करें ----- एयर कण्डीशन का कम से कम उपयोग करें -----
  परिशिष्ट-6.4

क्रम संख्या-27(क)

रजि0नं0. एल0डब्लू0/एन0पी0-890,
लाइसेंस नं0 डब्लू0पी0-41
लाइसेंस टू पोस्ट कन्सेशलनल रेट

सरकारी गजट, उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रकाशित
असाधारण

विधायी परिशिष्ट

भाग-4,खण्ड (ख)

(परिनियत आदेश)

लखनऊ, शुक्रवार, 6 फरवरी, 1998

माघ 17,1919 शक सम्वत्

उत्तर प्रदेश शासन

ऊर्जा (3) अनुभाग

स्ख्या 232-पी-3/98-24-85 पी-84

लखनऊः 6 फरवरी, 1998

अधिसूचना

प0आर0--59

 

उ0प्र0 इलेक्ट्रिसिटी (ड्यूटी)अधिनियम,1952 (उ0प्र0अधिनियम संख्या-33 सन् 1952)की धारा -3 के अधीन शक्ति का प्रयोग करके और सरकारी, अधिसूचना संख्या-02 पी-3/97-24पी-84, दिनांक 3 जनवरी, 1997 में निर्धारित इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी की दरों में आशिंक संशोधन करते हुये (चार) किसी अन्य व्यक्ति द्वारा अधिष्ठापित अपने निजी विद्युत उत्पादन स्त्रोत से औद्यौगिक तथ अन्य प्रयोजनों के लिये उपभुक्त इनर्जी पर 3 पैसे प्रति यूनिट की दर से निर्धारित की गयी। इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी को इस अधिसूचना के गजट में प्रकाशन की तिथि से श्री राज्यपाल महोदय एतद्द्वारा समाप्त करने के आदेश देते है। तदनुसार अधिसूचना दिनांक 3 जनवरी, 1997 का प्रस्तर -2 इस सीमा तक संशोधित समझा जायेगा।

 

 
 

राज्यपाल की आज्ञा से,
शंकर अग्रवाल,

सचिव ।