-----कल के उत्तम भविष्य के लिए आज बिजली बचायें ----- उपकरणों के उपभोग के बाद तुरन्त बन्द कर दें ----- आग लगे भवन की बिजली तुरन्त बन्द कर दें ----- अधिक क्षमता वाले बल्बों के स्थान पर कम क्षमता वाले बल्बों का उपयोग करें ----- कम्पैक्ट-लोरेसेन्ट का प्रयोग करें ----- जीवन्त अधिष्ठापन पर कदापि कार्य न करें, बल्कि अधिष्ठापन की बिजली बन्द करके ही कार्य करें ----- एयर कण्डीशन का कम से कम उपयोग करें -----
उपभोक्ता के लिए कुछ लाभकारी बातें:
विद्युत उपभोक्ता द्वारा निम्नलिखित बातों पर भी विशेष रूप स ध्यान आवश्यक है:-

 

1. विद्युत से सम्बन्धित अधिष्ठान का कार्य राजकीय लाईसेन्स धारी विद्युत ठेकेदार से ही करायें।

 

2. विद्युत अधिष्ठापन में आई.एस.आई./अनुमोदित सामान/उपकरण का ही इस्तेमाल करे। घटिया सामान तथा उपकरण खतरनाक, अविश्वसनीय एवं खर्चीले होते हैं।

 

3. विद्युत अधिष्ठापन को उचित प्रकार की सक्षम अर्थिंग तथा उचित कैपेसिटी की फयूजेज द्वारा सुरक्षित रखना न भूलें इसके बिना आपकी भंयकर क्षति हो सकती है।

 

4. स्विच को फेज के तार में ही लगवायें। न्यूटल के तार में कदापि न लगायें अन्यथा दुर्घटना हो सकती है।

 

5. बिना लाईसेन्स/परमिट/सर्टिफिकेट प्राप्त किये हुए विद्युतीय अधिष्ठापन का कार्य न करें। ऐस करना कानूनी अपराध है तथा इसके लिए दण्डित किया जा सकता है।

 

6. जीवन्त अधिष्ठापन पर कार्य न करें, बल्कि अधिष्ठापन की बिजली बन्द करने के बाद ही कार्य करें।

 

7. कृपया बिजली की चोरी न करें। यह एक सामाजिक तथा कानूनी अपराध है। आप जैसे सम्मानित नागरिक से इसकी अपेक्षा नहीं की जा सकती है।

 

8. बल्ब के स्थान पर इलैक्ट्रानिक चोक युक्त ट्यूब लाईट तथा सी.एफ.एल. का प्रयोग करें। इससे रोशनी अधिक प्राप्त होती है तथा बिजली कम खर्च होती है।

 

9. बिजली कार्य इंसुलंटिंग प्लेटफार्म जैसे रबर की चटाई, सूखी लकड़ी का तख्ता आदि पर खड़े होकर ही करें, इससे आपकी सुरक्षा बनी रहती है।

 

10. बिजली का आवश्यकतानुसार इस्तेमाल करें। अनावश्यक रूप में इसका अपव्यय न करें। इसमें आप और राष्ट्र दोनों का हित है।

 

11. 2 पिन प्लग के स्थान पर 3 पिन प्लग का इस्तेमाल करें तथा तीसरे अर्थ पिन को अनिवार्य रूप से अर्थड करवायें, इससे सुरक्षा होती है।

 

12. अधिष्ठापन पर उसकी कसौटी से अधिक लोड न डालें, इससे उसकी लाईफ कम होती है तथा बिजली अधिक खर्च होती है।

 

13. विद्युत लाइन या उपकरणों पर कार्य सुरक्षा युक्ति जैसे ग्लब्स, रबड़ के जूते, सेफ्टी बेल्ट्स, सीढ़ी, अर्थिंग डिवाईस, लाईन टेस्टर, इंसुलेटेट प्लास तथा हैण्ड लाईन्स आदि का प्रयोग करके ही करें, इससे आपकी सुरक्षा बनी रहती है।

 

14. बिजली के तार/डोरी आदि के पास लोहे की अरगनी को न बांधें, इनमें बिजली आ सकती है तथा दुर्घटना हो सकती है।

 

15. अस्थाई रूप से तार/डोरी खींचकर बिजली का इस्तेमाल न करें। यह असुरक्षित है तथा दुर्घटना हो सकती है।

 

16. विद्युत अधिष्ठापन में अर्थलीकेज सर्किट ब्रेकर (ई.एज.सी.बी.) का प्रयोग किया जाना कानूनी तथा सुरक्षा के दृष्टिकोण से आवश्यक तथा लाभकारी है।

 

17. विद्युत अधिष्ठापन में कट आउट के स्थान पर एम.सी.बी. का उपभोग अधिक सुविधाजनक तथा सुरक्षित है।

 

18. अपने विद्युत अधिष्ठापन की समय-समय पर जांच अवश्य करवायें, तथा बताई गई कमियों एवं त्रुटियों का शीघ्र से शीघ्र निवारण करवायें क्योंकि यह सुरक्षित एवं लाभकारी है।

 

19. बिजली से सम्बन्धित किसी भी कठिनाई के निवारण हेतु बिना किसी संकोच के विद्युत सुरक्षा निदे्यालय से सम्पर्क करें। हम आपकी सहायता के लिए सदैव तत्पर हैं।

 

20. कल के उन्नत भविष्य के लिये आज बिजली बचायें।

 

21. अधिक क्षमता के बल्बों के स्थान पर कम क्षमता के बल्बों का उपयोग करें।

 

22. कम्पेक्ट फलोरेसेन्ट लैम्प (सी.एफ.एल.) का उपयोग करें।

 

23. उपकरणों के उपभोग के तुरन्त बाद बन्द कर दें।

 

24. रेफ्रीजरेटर को 3-4 डिग्री सेलसियस पर उपयोग में लाये।

 

25. वाशिंग मशीन को फुल लोड पर चलायें।

 

26. एयर कन्डीशनर का कम से कम (बुद्धिमता से) उपभोग करें। एक एयर कन्डीशनर के उपभोग में 30 बिजली के पंखों के बराबर बिजली का उपयोग होता है।

 

27. लेम्स तथा लाइट फिक्चर को घूल से मुक्त रखें।

 

28. बिजली की वायरिंग के लीकेज होने से बिना उपकरणों को उपभोग में लाये ही बिजली की खपत होती है जो क्षति है।

 

29. बिजली की वायरिंग को लीकेज मुक्त करने के लिये उसकी लाइसेंस प्राप्त बिजली के ठेकेदार से मेगर द्वारा नियमित जांच करायें तथा क्षतिग्रस्त वायरिंग को तुरन्त बदलावें।

 

30. जीवन्त अधिष्ठापन पर कार्य कदापि न करें, बल्कि अधिष्ठापन की बिजली बन्द करके ही कार्य करें।

31. लाईन लॉसेज कम करके भी ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

32. विद्युत उपकरणों की उत्तम क्वालिटी भी ऊर्जा संरक्षण में मद करेगी।

33. रोशनी के लिए कम क्षमता (पावर) के बल्ब या टूयबलाईट के प्रयोग/प्रचल करने से ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

34. विद्युत प्रदायकर्ता के खराब ट्राँसफार्मर लाईन एवं अन्य मशीनों को सही समय पर ठीक करके या नये लगाकर भी ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

35. विद्युत के सही एवं सुरक्षित प्रयोग के तरीकों को लगातार पब्लिक तक पहुँचा कर भी ऊर्जा संरक्षण करने में मदद मिलेगी।

36. भारतीय विद्युत नियमों का सही प्रयोग/अनुपालन किये जाने से भी ऊजौ का संरक्षण किया जा सकता है।

37. हमारे देश में विद्युत लाइनों, मशीनों एवं ट्राँसफार्मर की अनुरक्षण स्थिति/प्रणाली ठीक नहीं है इसे सुधार के भी ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

38. ऊजौ के जनरेशन, ट्रांसफार्मर एवं वितरण के लिए उत्तरदायी तकनीकी स्टाफ द्वारा यदि सही एवं सही समय पर कार्य कर किया जाए तो भी ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

39. जनता को बार-बार ऊर्जा के सही एवं सुरक्षित प्रयोग की जानकार मनोरंजक तरीके से दिये जाने पर ऊर्जा के संरक्षण में मदद मिलेगी।

40. विद्युत ऊर्जा की चोरी/लीकेज रोककर भी ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

41. I.S.I. प्रमाणित विद्युत मशीनों/तारों एवं उपकरणों का प्रयोग करने से भी ऊर्जा का संरक्षण किया जा सकता है।

42. बिजली बचाने के सम्बन्ध में विद्युत सुरक्षा विभाग (निदेशालय)/अधिकृत संस्थाओं से सम्पर्क करें।

43. एक यूनिट बिजली की बचत, 1.4 यूनिट बिजली का उत्पादन बढ़ाना है।

44. इलैक्ट्रानिक चोक युक्त ट्यूब प्रयोग में लायें बिजली खपत को आधा करें एवं बेहतर रोशनी पायें।

45. बड़े व्यवसायिक औद्योगिक प्रतिष्ठापनों में मेन्स सप्लाई पर सर्वों मोटर चालित स्टेबलाइजर्स लगाकर बिजली बचायें।

46. अपेक्षित क्षमता से अधिक क्षमता का मोटर प्रयोग में न लायें, बिजली बचायें।

47. स्ट्रीट लाइट में टाइम स्विच लगायें तथा बिजली बचायें।

48. आज का युग प्रचार एवं प्रसार का युग है अतः ऐसे में किसी भी बात को या सन्देया को प्रचार एवं प्रसार के प्रभावी माध्यमों का सही प्रयोग करके आसानी से पब्लिक तक पहुँचाया जा सकता है एवं उसका सकारात्मक परिणाम प्राप्त किया जा सकता है।